ट्रेन के एसी कोच से 11 लाख नकदी और सामानों की चोरी, जमकर हुआ हंगामा…

रायपुर : रायपुर रेलवे स्टेशन में उस वक्त हड़कंप मच गया जब एक्सप्रेस ट्रेन के यात्रियों ने लाखों रूपये की चोरी को लेकर हंगामा कर दिया। बताया जा रहा है कि शालीमार-कुर्ला और मुंबई-हावड़ा एक्सप्रेस के एसी कोच से शातिर चोर चार यात्रियों के 11 लाख रुपये नकदी सहित कई सामान लेकर फरार हो गए। घटना की जानकारी के बाद नाराज यात्रियों ने रायपुर रेलवे स्टेशन में ट्रेन को रोककर रिपोर्ट दर्ज कराने के दौरान जमकर हंगामा किया गया।
मिली जानकारी के मुताबिक रविवार की देर रात शालीमार-कुर्ला एक्सप्रेस के एसी कोच में सफर कर रहे एक व्यापारी और डाॅक्टर को शातिर चोरों ने अपना शिकार बनाया। इसी तरह मुंबई- हावड़ा मेल में एक महिला यात्री का बैग समेत चार सूटकेस की चोरी कर शातिर चोरी फरार हो गये। चोरी का शिकार हुए यात्रियों ने बताया कि तीन सूटकेस में करीब 11 लाख रुपये नकद थे।रविवार की सुबह जब बिलासपुर स्टेशन से ट्रेन निकली तब सो कर उठे यात्रियों को उनके सामानों की चोरी का पता चला। सूटकेस गायब देखकर यात्रियों के होश उड़ गए।
ट्रेन के रायपुर स्टेशन पहुंचने के बाद यात्रियों ने जमकर हंगामा किया। मौके पर पहुंचे जीआरपी, आरपीएफ और रेलवे अधिकारियों ने जांच के बाद कार्रवाई का आश्वासन दिया गया। तब जाकर यात्री शांत हुए। इसके बाद जीआरपी थाना रायपुर और दुर्ग में चारों पीड़ित यात्री संजय चौधरी, मधुसूदन अग्रवाल, डा. सत्येंद्र मोहन बत्रा और अरुण बसु दास ने चोरी की शिकायत दर्ज कराई है। जीआरपी और आरपीएफ ने चोरी की इस बड़ी वारदात में ओडिशा के झारसुगड़ा और राजगामपुर गिरोह के हाथ होने का संदेह जताया है। जीआरपी की माने तो गिरोह के सदस्यों के मूवमेंट दोनों ट्रेनों में पाए जाने के बाद जीआरपी की टीम उनकी तलाश में जुट गई है।
वहीं दूसरी तरफ चोरी का शिकार हुए यात्रियों ने आरोप लगाया कि जब ट्रेन के एसी कोच में यात्री और उनका सामान सुरक्षित नहीं है, तो सामान्य कोचों की क्या स्थिति होगी। चोरी की घटना बिलासपुर जोन में घटित होने के कारण जीआरपी ने शून्य में अपराध कायम कर आगे की कार्रवाई के लिए केस डायरी बिलासपुर जीआरपी को भेज दी है।
उधर एक्सप्रेस ट्रेनों में हुए इस बड़ी चोरी ने जीआरपी और आरपीएफ की सुरक्षा व्यवस्था पर भी सवाल खड़े कर दिये है। ऐसे में अब ये देखने वाली बात होगी कि दो ट्रेनों में यात्रियों के साथ हुए लाखों की चोरी के मामले को जीआरपी सुलझा पाती है, या फिर ये मामला भी फाइलों में ही सिमट जायेगा, ये तो आने वाला वक्त ही बतायेगा।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here