24 फरवरी से 8 मार्च तक चलेगी राजिम कुंभ (कल्प), पं. प्रदीप मिश्रा और धीरेंद्र शास्त्री होंगे शामिल…

गरियाबंद : छत्तीसगढ़ के ऐतिहासिक और सांस्कृतिक महत्व के शहर राजिम के वैभव को फिर से स्थापित करने के लिए राजिम कुंभ (कल्प) की फिर से शुरुआत करने का निर्णय लिया है।
राजिम शहर में आयोजित होने वाले विशाल धार्मिक समागम का नाम बदलकर ‘राजिम कुंभ (कल्प) मेला’ करने का फैसला किया है. यह जानकारी अधिकारियों ने शुक्रवार को दी है. अधिकारियों के मुताबिक इस मेले को कांग्रेस के शासनकाल के दौरान ‘राजिम माघी पुन्नी मेला’ के नाम से जाना जाता था।
राजिम एक लोकप्रिय ऐतिहासिक तीर्थ स्थल है है, जो गरियाबंद जिले में महानदी के तट पर स्थित है. हर साल महाशिवरात्रि के दौरान राजिम में एक विशाल सभा आयोजित की जाती है, जिसमें लाखों लोग शामिल होते हैं। एक आधिकारिक बयान के मुताबिक मंत्रिमंडल ने राज्य के ऐतिहासिक और सांस्कृतिक महत्व के शहर राजिम के गौरव को बहाल करने के लिए राजिम कुंभ (कल्प) मेले को फिर से शुरू करने का निर्णय लिया है। अब राजिम माघी पुन्नी मेला के स्थान पर राजिम कुंभ (कल्प) मेला का आयोजन किया जाएगा। बता दे इस आयोजन में पं. प्रदीप मिश्रा-धीरेंद्र शास्त्री भी शामिल होंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here