बिलासपुर में डायरिया ने हाहाकार, बीते 6 दिनों में 5 लोगो की मौत

बिलासपुर, 20 जुलाई 2023 : जिले में डायरिया से गुरुवार को हथनी गांव की रहने वाली 32 वर्षीय महिला मौत हो गई है। परमेश्वरी की मौत सिम्स अस्पताल में इलाज के दौरान हो गई। मौत की पुष्टि सरपंच गांधी यादव ने की। अब तक डायरिया से ये पांचवीं मौत है, मामला बिल्हा विधानसभा क्षेत्र का है।
जानकारी के मुताबिक, ग्राम सरपंच गांधी यादव ने बताया कि परमेश्वरी को उल्टी-दस्त की शिकायत थी। पहले उसे बिल्हा के अस्पताल में भर्ती कराया गया था, लेकिन जब हालत बिगड़ी, तो उसे सिम्स रेफर कर दिया गया। यहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। परिजनों का आरोप है कि बिल्हा में उसका सही इलाज नहीं हो पाया, जिससे सिम्स पहुंचने के बाद उसकी मौत हो गई।
इधर पिछले 6 दिनों में डायरिया से हुई 5 मौतों को लेकर पूर्व नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने नगर निगम और स्वास्थ्य विभाग पर गंभीर लापरवाही का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि इस मामले में जांच होनी चाहिए। उन्होंने विधानसभा में भी इस मुद्दे को उठाने की बात कही। बिल्हा विधायक धरमलाल कौशिक ने डायरिया से हो रही लगातार मौतों के पीछे दूषित जल की सप्लाई को जिम्मेदार ठहराया।
मंगलवार को हुई थी डायरिया से बुजुर्ग महिला की मौत
जिले के वार्ड क्रमांक- 56 चांटीडीह में डायरिया से मंगलवार को 65 वर्षीय बुजुर्ग महिला धनकुंवर रजक की मौत हो गई थी। मृतका के भतीजे अमित रजक ने बताया कि ईरानी मोहल्ले की ओर से आने वाली पाइप लाइन में कहीं-कहीं लीकेज है, जिससे नाली का और बरसाती पानी सप्लाई हो रहा है। डायरिया की वजह दूषित पानी की सप्लाई ही हो सकती है। बुजुर्ग महिला के बाद डायरिया से संतोष दास (45 वर्ष) की भी जान चली गई।

डायरिया की चपेट में बिलासपुर जिला
शहर में डायरिया से पीड़ित 100 से ज्यादा मरीजों की पहचान की गई है। लगातार मरीजों की संख्या बढ़ रही है। वहीं स्वास्थ्य विभाग डायरिया महामारी को कंट्रोल करने के लिए कैंप लगाया है।सबसे ज्यादा मरीज चांटीडीह स्थित वार्ड नंबर 55, 56 और 59 में मिल रहे हैं। यहां मरीज उल्टी, दस्त और बुखार से पीड़ित हैं। गंभीर रूप से पीड़ित मरीजों को जिला अस्पताल और सिम्स में रेफर किया जा रहा है। चांटीडीह क्षेत्र के रामायण चौक और मुस्लिम मोहल्ले में गंदे पाइप से पीने का पानी सप्लाई होने की वजह से महामारी फैली हुई है। पिछले दिनों इनमें से करीब 52 लोगों को सिम्स अस्पताल में भर्ती किया जा चुका है।
डायरिया पीड़ितों का हाल जानने भी सिम्स पहुंचे अरुण साव
बुधवार को बिलासपुर के चांटीडीह में डायरिया से संक्रमित हुए मरीजों का हाल जानने के लिए भी प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष और बिलासपुर सांसद अरुण साव सिम्स पहुंचे। उन्होंने पीड़ित मरीजों से मुलाकात कर उनके स्वास्थ्य की जानकारी ली, साथ ही सिम्स प्रबंधन को उनके उचित उपचार के निर्देश भी दिए।

भाजपा का आरोप है कि निगम प्रशासन की लापरवाही के कारण यह स्थिति निर्मित हुई है और जिसे नियंत्रित कर पाने में नगर निगम पूरी तरह से विफल दिखाई दे रहा है। अरुण साव ने आरोप लगाया कि राज्य सरकार पूरी तरह से कोलैप्स हो गई है। सरकार लोगों के स्वास्थ्य के प्रति असंवेदनशील है, उसे छत्तीसगढ़ की जनता के स्वास्थ्य से कोई सरोकार नहीं है।
बिलासपुर के डायरिया प्रभावित क्षेत्र का पानी दूषित
बिलासपुर शहर के डायरिया प्रभावित वार्ड क्रमांक- 56 चांटीडीह में सप्लाई हो रहे पानी के सैंपल टेस्ट की रिपोर्ट ने निगम के जल प्रदाय व्यवस्था की पोल खोल दी है। सिम्स के माइक्रोबायलॉजी डिपार्टमेंट ने 3 दिनों के सैंपल टेस्ट की रिपोर्ट में तीनों दिन ईकोलाई, क्लासरडियम बैक्टीरिया पाए जाने का खुलासा किया है। सिम्स के डीन केके सहारे ने बातचीत में बैक्टीरिया मिलने की पुष्टि की। उन्होंने रिपोर्ट सीएमएचओ को भेजने की जानकारी दी।
निगम नहीं चेता, पाइप लाइनें नहीं बदलीं
नगर निगम के जल विभाग का आलम यह है कि डायरिया प्रभावित चांटीडीह की ओर जाने वाले जबड़ापारा नाला के पास दो स्थानों पर पाइप लाइन फूटने से सड़क पर दो दिनों से हजारों लीटर पानी बह रहा है। कई जगहों पर नाले, नालियों के बीच से पाइप लाइन गुजरी पाई गई।
मंगलवार को धनकुंवर रजक की मौत हुई, उसके घर की ओर पहुंचने वाली पाइप लाइन भी नाली के बीच से गुजरी पाई गई। इसे नाली से ऊपर नहीं उठाया जा सका है। साफ है कि जहां भी पाइप लाइन नाली के बीच से गुजरी है या पाइप लाइन में लीकेज है, उसके जरिए घरों में गंदा पानी सप्लाई हो रहा होगा। इसी वजह से लोगों को जल जनित बीमारियां हो रही हैं।
दूषित पेयजल की सप्लाई के लिए जिम्मेदार लोगों पर कार्रवाई होगी: सभापति
नगर निगम के सभापति शेख नजीरुद्दीन ने निगम द्वारा सप्लाई हो रहे पेयजल में बैक्टीरिया मिलने पर खेद जताते हुए कहा कि बारिश के पहले पाइप लाइनों को दुरुस्त करने का काम नहीं किया गया, जिसके कारण लोग बीमार पड़े। उन्होंने कहा कि दूषित पेयजल की सप्लाई के लिए जिम्मेदार लोगों के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि महापौर रामशरण यादव ने पेयजल सहित विभिन्न विषयों को लेकर शाम 4 बजे निगम के इंजीनियरों की बैठक बुलाई है। इसमें जल प्रदाय व्यवस्था पर भी चर्चा होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here