महाशिवरात्रि पर्व पर करें बेलपत्र से जुड़े यह खास उपाय, जानें पूजा विधि और शुभ मुहूर्त…

महाशिवरात्रि : महाशिवरात्रि का पर्व हर साल फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मनाया जाता है। इस वर्ष 18 फरवरी को धूमधाम से महाशिवरात्रि पर्व मनाया जाएगा। इस साल महाशिवरात्रि पर काफी खास संयोग बन रहे हैं। जानिए महाशिवरात्रि के चार प्रहर का शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और मंत्र।
महाशिवरात्रि 2023 पूजा विधि
इस दिन सूर्योदय से समय उठकर सभी कामों से निवृत्त होकर स्नान कर लें। इसके बाद साफ वस्त्र धारण कर लें। लेकिन काले रंग के कपड़े पहनने से बचें।
अगर व्रत रख रहे हैं, तो शिव जी का मनन करते हुए व्रत का संकल्प लें।
मंदिर जाकर शिवलिंग में जलाभिषेक, दूधाभिषेक आदि करें।
शिवलिंग में बेलपत्र, धतूरा, फूल, बेर, जौ की बाली आदि चढ़ाएं।
इसके बाद भोग लगाएं और जल चढ़ाएं।
अंत में विधिवत आरती करने के साथ चालीसा, मंत्र, स्त्रोत और कथा का पाठ करें।
इसके साथ ही दिनभर व्रत रखें और सभी नियमों का पालन करें।
महाशिवरात्रि 2023 शुभ मुहूर्त
पंचांग के अनुसार, फाल्गुन मास की चतुर्दशी तिथि 17 जनवरी को रात्रि 8 बजकर 2 मिनट से शुरू हो रही है, जो 18 फरवरी को शाम 4 बजकर 18 मिनट पर समाप्त होगी।
आपने देखा होगा कि कुछ लोग भगवान शिव को बेलपत्र अर्पित करने के बाद उसकी पत्ती को पूजा की थाली में संजोकर वापस ले आते हैं. उसकी पत्ती को पूजा के स्थान पर नहीं छोड़ते हैं। इस महाशिवरात्रि पर बेलपत्र से जुड़े करे यह खास उपाय
जंगल में पेड़ों की हजारों प्रजातियां
सद्गुरु कहते हैं कि जंगल में पेड़ों की हजारों प्रजातियां हैं. अलग-अलग किस्म के पेड़ हैं. पेड़ों और पत्तियों की इस विविधता में आध्यात्मिक मार्ग पर चलने वालों ने केवल एक ही पत्ती क्यों चुनी? दरअसल किसी ने इसे पहचाना और महसूस किया कि यह सबसे अलग है. आप इसे अनदेखा नहीं कर सकते।
जीवनभर सुख-सुविधाएं
बेलपत्र के पेड़ महादेव का वास माना जाता है। जो लोग शिवरात्रि पर किसी बेल वृक्ष के नीचे खड़े होकर खीर और घी का दान करते हैं, उन्हें महालक्ष्मी की विशेष कृपा प्राप्ति होती है। ऐसे लोग जीवनभर सुख-सुविधाएं प्राप्ति करते हैं और सभी कार्यों में सफल होते हैं।
बेलपत्र को अपने धन के स्‍थान में रखे
शिवलिंग पर चढ़े बेलपत्र को अपने धन के स्‍थान में रखने से आपके घर धन धान्‍य से भरे रहते हैं। आपको करना यह है कि शिवलिंग पर चढ़े बेलपत्र में से कोई भी तीन बेलपत्र लें और उस पर चंदन से ऊं नम: शिवाय लिख लें और इन बेलपत्रों को अपने धन के स्‍थान में रख लें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here